कैराना ब्लॉक प्रमुख चुनाव में खेला हो गया

कैराना ब्लॉक प्रमुख चुनाव में खैला हो गया !!
सपा विधायक नाहिद हसन ने अपनी जान बचाने की खातिर अपने बीड़ीसी सदस्यों की जान जोखिम में डाली और सपा विधायक नाहिद हसन ने कैराना ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भारतीय जनता पार्टी द्वारा समर्थित प्रत्याशी को खुला समर्थन देकर अपने समर्थकों में हलचल पैदा कर दी है! लोगों का कहना है! कि जब लोगों पर मुक़दमे लगते हैं! या आफत आती है! तो सपा विधायक और उनकी माता पूर्व सांसद तबस्सुम हसन आराम से अपने ही कार्यकर्ताओं को एक दूसरे से भिड़ा कर पहले आनंद लेते हैं! और जब वह लूट पिट जाते हैं! जेल काट आते हैं! मुकदमा झेल रहे होते हैं! तब वह इनका समझौता करने का असफल प्रयास करते हैं! और उनके समझौते के नाम पर मां एक पक्ष के साथ खड़ी हो जाती है! विधायक बेटा दूसरे पक्ष के साथ खड़ा हो जाता है! और उनको समझौते के नाम पर कई-कई वर्षों तक अटकाए रखता है! ताकि चुनाव के समय दोनों पक्ष उनसे अलग कहीं ना जाए और यह अपनी पुरानी परंपरा निभाते आ रहे हैं! मगर जब-जब नाहिद हसन पर कोई भी मुक़दमा लगा तब-तब नाहिद हसन भारतीय जनता पार्टी की गोद में जाकर बैठ गया गंगोह विधानसभा उपचुनाव में विधायक नाहिद हसन ने अपनी ही पार्टी समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी श्री इंद्रसेन के खिलाफ जाकर बहुजन समाज पार्टी के कमज़ोर प्रत्याशी का समर्थन भारतीय जनता पार्टी के कहने से किया था ताकि भारतीय जनता पार्टी को लाभ मिल सके और हुआ भी वही भारतीय जनता पार्टी उपचुनाव में कीरत सिंह को विधायक बनवाने में सफल हो गई अब जनपद शामली के जिला पंचायत चुनाव में भी विधायक नाहिद हसन ने अपने 2 वोट भारतीय जनता पार्टी को दिए वहीं अब जब ब्लॉक प्रमुख का चुनाव आया तो विधायक नाहिद हसन ने भारतीय जनता पार्टी द्वारा समर्थित प्रत्याशी हर्षिल चौधरी का खुला समर्थन कर दिया और अपना कोई भी प्रत्याशी मैदान में नहीं उतारा सबको मालूम है! कि लगभग पिछले 35-40 वर्षों से विधायक नाहिद हसन के परिवार यानी के चौधरी मुनव्वर हसन मरहूम के समय से ही कैराना में विधायक नाहिद हसन परिवार समर्थित ब्लाक प्रमुख बनता था और हर चुनाव में विधायक नाहिद हसन अपना प्रत्याशी उतारते थे और जितवाते थे पिछले चुनाव में भी विधायक नाहिद हसन ने ग्राम भूरा से चौधरी गयूर हसन को ब्लॉक प्रमुख पद का प्रत्याशी बनाया था और पूरी मेहनत करके उनको ब्लॉक प्रमुख बनवाया था इस बार गयूर हसन जिला पंचायत सदस्य बन गए 2010 में विधायक नाहिद हसन ने चौधरी अखलाक प्रधान पंजीठ को ब्लाक प्रमुख पद का प्रत्याशी बनाया था और इस बार अखलाक प्रधान भी जिला पंचायत सदस्य बन गए हैं! और यह दोनों विधायक नाहिद हसन के इशारे पर भारतीय जनता पार्टी में गए और भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी को वोट दिया इसीलिए भारतीय जनता पार्टी 1 वोट से चुनाव जीत गई अगर विधायक नाहिद हसन अपने इन दोनों जिला पंचायत सदस्यों को भारतीय जनता पार्टी में ना भेजते तो जनपद शामली में समाजवादी पार्टी का जिला पंचायत अध्यक्ष बनता मगर इस बार विधायक नाहिद हसन पर ख़ुद पड़ी हुई है! और उन पर गैंगस्टर एक्ट का मुकदमा लगा हुआ है! इसीलिए भारतीय जनता पार्टी से वह खौफ खाकर और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के कहने पर विधायक नाहिद हसन ने कैराना ब्लाक प्रमुख पद पर अपना कोई भी प्रत्याशी नहीं उतारा जबकि अगर विधायक नाहिद हसन समाजवादी पार्टी से कैराना ब्लाक प्रमुख पद से प्रत्याशी उतार दे तो संभवत: समाजवादी पार्टी फिर कैराना में अपना ब्लाक प्रमुख बनवाते और जनपद शामली में अपना जिला पंचायत अध्यक्ष भी बनवाती मगर विधायक नाहिद हसन ने अंदर खाने भारतीय जनता पार्टी के नेताओं से डीलिंग कर ली है! अब जनता समझ चुकी है! कि अगर इन पर कोई एक छोटा सा मुकदमा लग जाए तो यह भारतीय जनता पार्टी की गोद में जाकर बैठ जाते हैं! और जब इनके कार्यकर्ताओं और क्षेत्र के लोगों पर गंभीर धाराओं में यह ख़ुद मुक़दमे दर्ज कराते हैं! तब कुछ नहीं होता और फिर उन भोले-भाले लोगों को फैसले नाम पर कई कई सालों तक भट्टकाते हैं! और मां पूर्व सांसद तबस्सुम हसन एक पक्ष की ओर हो जाती है! और बेटा विधायक नाहिद हसन दूसरे पक्ष की ओर होकर पैरोंकारी करता है! और दोनों मां बेटा जनता का उल्लू बनाते रहते हैं! और क्षेत्र की भोली-भाली जनता समझती है! कि नहीं पूर्व सांसद यानी विधायक जी की माताजी तबस्सुम हसन जी तो हमारी ही तरफदारी कर रही हैं! और दूसरा पक्ष समझता है! कि विधायक जी हमारी तरफ़दारी कर रहा है! मगर यह दोनों मां-बेटे क्षेत्र की भोली-भाली जनता को पागल बनाते आ रहे हैं! आज तक इन्होंने किसी का कोई फैसला कराया हो तो बता दो यह सिर्फ़ और सिर्फ़ फैसलों में समय पर समय देते रहते हैं! जब दोनों पक्ष इनके हैं! एक पक्ष मां का है! दूसरा पक्ष बेटे का है! तो समझौता कराने में 10 मिनट नहीं लगती पर इनको भोली-भाली जनता के वोट लेने हैं! और इस बार तो विधायक नाहिद हसन ने इस हद तक कर दिया है! कि 2019 के उपचुनाव में जब गंगोह विधानसभा चुनाव में नोमान मसूद और चौधरी इंद्रसेन मैं बराबर की टक्कर थी और दोनों में से एक चुनाव जीत रहा था वैसे लगभग नोमान मसूद चुनाव जीत रहा था तब विधायक नाहिद हसन पर फर्जी गाड़ी रखने का मुक़दमा चल रहा था और यह अपनी जान बचाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के आकाओं के दरबार के चक्कर लगा रहा था तब भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने इससे कहा कि तुम गंगोह विधानसभा चुनाव में बिना जनाधार वाले नेता बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी इरशाद हसन की पैरोंकारी करो जिस से भाजपा प्रत्याशी कीरत सिंह साफ़-साफ़ जीत जायेगा और हुआ भी ऐसा ही अगर उस समय विधायक नाहिद हसन पार्टी हित में काम करता तो संभवत: गंगोह विधानसभा सीट से इंद्रसेन विधायक होते वैसे उस उपचुनाव में नोमान मसूद साफ़ साफ़ जीत गए थे वह तो सरकार और नाहिद हसन के के इशारे पर हराए गए थे और जब लोकसभा का उपचुनाव हुआ था दो हजार अट्ठारह में तब इमरान मसूद और नोमान मसूद ने विधायक नाहिद हसन की माताजी तबस्सुम हसन को चुनाव जिताने में जी तोड़ मेहनत की थी और उनको चुनाव जितवाया था और उस समय 2019 के चुनाव में जब प्रदीप चौधरी सांसद बन गए तो विधायक नाहिद हसन और इनकी माता पूर्व सांसद तबस्सुम हसन ने मसूद परिवार को आश्वासन दिया था कि तुम ने हम पर एहसान किया है! विधानसभा के उपचुनाव में हम तुम्हारे साथ रहेंगे अगर विधायक नाहिद हसन और इनकी माता पूर्व सांसद तबस्सुम हसन नोमान मसूद के लिए थोड़ा भी सहारा कर देते तो नोंमान मसूद विधायक बन गए थे पूर्व विधायक तो वह वैसे भी बन गए थे सबको पता है! कि सत्ता के दबाव में उनको विधायक नहीं बनने दिया यह तो रही गंगोह विधानसभा की बात वहां भी इन मां बेटे ने गंगोह की जनता के साथ विश्वासघात किया और भारतीय जनता पार्टी का विधायक बनवा दिया अभी कुछ दिन पहले विधायक नाहिद हसन की एक वीडियो वायरल हुई थी जिसमें उन्होंने इतने झूठ बोले उन्होंने कहा कि अब तक हम गंगोह विधानसभा सीट से चुनाव नहीं लड़े थे अब की बार लड़ेंगे मगर माननीय विधायक नाहिद हसन जी भूल गए कि 2012 में उन्होंने अपना सबसे पहला चुनाव गंगोह विधानसभा सीट से ही लड़ा था और बहुजन समाज पार्टी से इनका टिकट हो गया था मगर पैसे के लालच में स्टिंग ऑपरेशन में फंसने के कारण इनका टिकट काटकर शगुफ्ता खान जी को दे दिया गया था उसके बावजूद भी चौधरी नाहिद हसन गंगोह विधानसभा सीट से निर्दलीय विधायक का चुनाव लड़े और कहते हैं! कि हमने अभी तक गंगोह से चुनाव नहीं लड़ा फ़िर उसी वीडियो में इन्होंने एक बात और कहीं कि हम कैराना में नगर पालिका परिषद में उस जाति को चुनाव लड़ आते हैं! जिसके सबसे ज्यादा वोट होते हैं! यह भी माननीय विधायक नाहिद हसन ने जनता के सामने सरासर झूठ बोला इन्होंने 2017 के नगर पालिका परिषद के चुनाव में कैराना से वर्तमान चेयरमैन राशिद को समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ आया था जिस बिरादरी के पूरे कस्बे में 500 या 1000 वोट भी नहीं होंगे और इनके ख़ुद सगे चाचा हाजी अनवर हसन जी भी नगर पालिका परिषद का चुनाव लड़े और चुनाव जीते और वर्तमान में भी इनके सगे चाचा हाजी अनवर हुसैन जी नगर पालिका परिषद कैराना के चेयरमैन है! तो यह गंगोह में प्रेस वार्ता करके लोगों को झूठ बोलते हैं! या तो यह विधायक खुद पागल हो गए हैं! या यह गंगोह की जागरूक जनता को पागल समझते हैं! या पागल बनाने की कोशिश करते हैं! और उनको बरगलाने की कोशिश करते हैं! अब बात करते हैं! शामली जिला पंचायत के चुनाव की इन्होंने अपने दो वोट भारतीय जनता पार्टी को दिए जबकि समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के पास शामली में 12 वोट थे मगर विधायक नाहिद हसन ने 2 वोट भारतीय जनता पार्टी को दे दिए और एक वोट भारतीय जनता पार्टी ने ख़ुद मैनेज कर लिया इसलिए समाजवादी पार्टी पर 9 वोट रह गए और भारतीय जनता पार्टी पर 10 वोट हो गए और भारतीय जनता पार्टी विधायक नाहिद हसन की नाकामी के कारण और और अपनी पार्टी समाजवादी पार्टी के साथ गद्दारी के कारण विधायक नाहिद हसन की वजह से भारतीय जनता पार्टी अपना जिला पंचायत अध्यक्ष बनाने में कामयाब हो गई अब फ़िर विधायक नाहिद हसन पर भारतीय जनता पार्टी का दबाव आया और उनसे कहा गया कि तुम कैराना में अपना ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशी नहीं उतारोगे और हुआ भी यही विधायक नाहिद हसन ने कल ब्लाक प्रमुख पद के लिए नामांकन पत्र भी नहीं ख़रीदा और अपना पूरा समर्थन भारतीय जनता पार्टी के समर्थित प्रत्याशी हर्षल चौधरी को दे दिया इससे विधायक नाहिद हसन समर्थित सभी सम्मानित बीडीसी सदस्य एकदम हतप्रभ रह गए की विधायक नाहिद हसन ने उनको एक झटके में बेच दिया और जनता भी सोचने पर मजबूर हो गई की जिस परिवार का लगभग 35-40 वर्षों से कैराना ब्लॉक पर कब्जा था और हमेशा से इन्हीं का प्रत्याशी कैराना का ब्लाक प्रमुख बनता था इस बार विधायक नाहिद हसन ने कैराना से ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशी क्यों नहीं उतारा जनता समझ गई की विधायक नाहिद हसन अपने मुकदमें से डरे और सहमे हुए हैं! और जैसे-जैसे भारतीय जनता पार्टी इनको अपनी उंगलियों पर नचा रही है! ऐसे यह नाच रहे हैं! और उनके कुछ समर्थक इनको टाइगर विधायक लिखते हैं! टाइगर कभी किसी के सामने झुकता नहीं वह मुक़ाबला करता है! मगर यह तो गीदड़ विधायक साबित हुआ नाहिद हसन पर जब-जब मुकदमे हुए तब-तब नाहिद हसन भारतीय जनता पार्टी की शरण में गए और अपनी जान बचाई और लोगों की जान जोखिम में डाली अब भी पता नहीं कितने बेकसूर लोग ऐसे होंगे जो विधायक नाहिद हसन की वजह से सालों से जेलों में अपनी जिंदगी काट रहे हैं! क्योंकि इनका काम लोगों पर मुकदमा कराना है! और फिर बाद में कहते हैं! कि तुम्हारा फैसला करा देंगे और फैसला आज तक संभवतः इन्होंने किसी का नहीं कराया और इन्होंने जितने भी मुकदमे लगवाए हैं! अपने ही कार्यकर्ताओं पर लगवाए हैं! चाहे वह कैराना में लगवाए हो चाहे गंगोह में लगवाए हो गंगोह में लोग मुकदमों और इसमें जैसे नशे को नहीं जानते थे मगर जब से इनके नापाक कदम उस क्षेत्र में पड़े तब से हर गांव में आपस में पार्टी बाजी है! और सब में एक दूसरे पर कई-कई मुकदमे हैं! और रंजिशे से चल रही हैं! और इनके समाजवादी पार्टी की सरकार के कार्यकाल से ही इनकी अपनी ख़ुद की बिरादरी गुर्जर बिरादरी में स्मैक के नशे का कारोबार फल-फूल फूल रहा है! जो व्यक्ति अपनी ही बिरादरी को स्मैक के नशे जैसी लत में डालता हो और उनकी आने वाली नस्लों को बर्बाद करने की कगार पर खड़ा हो उसे विधायक बनने और राजनीति करने का कोई अधिकार नहीं है! इसने आज तक अपने ही कार्यकर्ताओं को जेल भिजवाया है! इन पर आज तक विपक्ष के एक भी कार्यकर्ता का इन पर बाल भी बांका नहीं हुआ इसलिए यह अपने ही आदमी को कमजोर करते हैं! ताकि वह दागी हो जाए और हमेशा तुम्हारी शरण में पड़ा रहे यह विधायक नाहिद हसन की गंदी राजनीति है! अब लोग एक सवाल पूछ रहे हैं! कि नाहिद हसन ने कैराना के ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भारतीय जनता पार्टी समर्थित प्रत्याशी हर्षिल चौधरी को समर्थन क्यों दिया क्योंकि इन्होंने दोनों काम कर लिए हैं हर्षिल चौधरी के पिता राजेंद्र चौधरी से मोटी रकम ले ली है! और अपने सभी बीडीसी सदस्यों को चुपचाप भेज दिया है! और भारतीय जनता पार्टी के दबाव में हैं! अगर ऐसा नहीं है! तो या तो नाहिद हसन जी अपना प्रत्याशी उतार दे या फ़िर समाजवादी, राष्ट्रीय लोक दल, भारतीय किसान यूनियन, कांग्रेस, यानी के विपक्ष का साझा उम्मीदवार उतारते मगर नाहिद हसन अगर ऐसा करते तो उनको उनके मुकदमे में फायदा कैसे मिलता जनता सवाल पूछती है! कि विधायक जी जब आप अपने एक छोटे से मुकदमे की ख़ातिर इतने गिर जाते हो तो लोगों पर इतने बड़े-बड़े मुक़दमे लगते हैं! उसमें आप फैसला क्यों नहीं कराते क्यों लोगों को कई-कई सालों तक टरकाते रहते हो यह जनता हमेशा आप को वोट देती है! इसी जनता ने आपके दादा मरहूम चौधरी अख्तर हसन जी को सांसद बनाया इसी जनता ने आपके वालिद-ए-मोहतरम मरहूम चौधरी मुनव्वर हसन साहब को दो बार विधायक बनाया दो बार सांसद बनाया एक बार विधान परिषद सदस्य बनाया चलो राज्यसभा समाजवादी पार्टी ने बना दिया था मगर विधायक सांसद और विधान परिषद सदस्य तो जनता ने ही बनाया है! और आपकी माता जी को भी दो बार सांसद बनाया और आपको भी दो बार विधायक बनाया मगर आप ने जनता के लिए क्या?? किया जनता को क्या?? दिया सिवाए मुकदमों के और जब एक मुकदमा आप पर लग गया तो आप भारतीय जनता पार्टी की गोद में जाकर बैठ गए यह वक्त तो संघर्ष का था आपको संघर्ष करना चाहिए था जब दूसरे लोग आप की खातिर मुकदमे झेलते हैं! तो आप भी तो जनता की ख़ातिर जनता के साथ खड़े होते और आपके चुने हुए सम्मानित क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी) का सम्मान रखते और और आप चुपचाप उनको भारतीय जनता पार्टी को ना बेचते आप कुछ करो तो सही !
और जनता कुछ करें तो गलत यह कहां का इंसाफ है! विधायक जी अगर विधायक जी अब भी आपके अंदर थोड़ी भी शर्म है! या और आपके अंदर जनता के लिए जरा भी प्यार और आपके अपने क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी) सदस्यों के लिए मोहब्बत है! तो आप भारतीय जनता पार्टी के ख़िलाफ़ मतदान की अपील करिए और जो भी भारतीय जनता पार्टी के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ेगा उसे जितवा कर अपना और इस पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शेर रहे हिंदू-मुस्लिम एकता के प्रतीक रहे मरहूम चौधरी मुनव्वर हसन साहब का नाम जिंदा रखिए आप एक ऐसी महान शख्सियत की औलाद हैं! और फ़िर आप ऐसा काम कर रहे हैं??
विधायक जी जनता सब समझ रही है! आगामी विधानसभा चुनाव में सात-आठ महीने बाकी हैं! अगर आप इसी तरह भारतीय जनता पार्टी को सपोर्ट करते रहे तो जनता आपसे सवाल जरूर पूछेगी और फ़िर आप पर कोई जवाब नहीं बनेगा और अगर आप इसी तरह भारतीय जनता पार्टी के पल्लू में बंधे रहे तो क्षेत्र की जनता को नहीं लगता कि आप कभी कैराना विधानसभा सीट से विधायक बन पाएंगे लोग आपके अंदर मरहूम चौधरी मुनव्वर हसन साहब का अक्स देखते थे क्योंकि चौधरी मुनव्वर हसन साहब कभी किसी मुकदमों या किसी भी पार्टी के दबाव में नहीं आए उन्होंने सच्ची और अच्छी राजनीति की है! और आप ओछी राजनीति कर रहे हो अभी भी वक्त है! संभलने का जनता आपसे सवाल नहीं पूछती जैसे आप कहते हो जनता ऐसे ही वोट कर देती है! मगर अगर आप जनता को बेवकूफ समझते हो तो यह आपकी ख़ुद की बेवकूफी है! इस बार जनता आपसे जरूर सवाल पूछेगी आप और आपका परिवार हर चुनाव लड़ता है! कोई चुनाव ऐसा नहीं रहा जो आपके परिवार नै ना लड़ा हो आपके एक चाचा ने नगर पालिका परिषद के सभासद का चुनाव लड़ा था तब आपके वालिद मोहतरम उस समय सांसद थे फ़िर आप की चाची ने प्रधानी का चुनाव लड़ा उसके बाद बीड़ीसी का चुनाव लड़ा फ़िर आपके चाचा ने दो बार जिला पंचायत का चुनाव लड़ा और दोनों बार जिला पंचायत सदस्य बने उसके बाद आपकी माता जी जिला पंचायत सदस्य रही जिला पंचायत सदस्य रहते-रहते आपकी माताजी सांसद बन गई और जब सांसद का समय पूरा हो गया उसके बाद फिर आपकी माताजी ने जिला पंचायत का चुनाव लड़ा और जिला पंचायत सदस्य बनी जो देश की सबसे बड़ी पंचायत लोकसभा की सदस्य रही हो वह जिला पंचायत सदस्य बनी और आपकी बहन ने भी जिला पंचायत सदस्य पद का चुनाव लड़ा मगर वह बेचारी हार गई थी उसके बाद 2018 में उपचुनाव हुआ आपकी माता जी फिर से कैराना लोकसभा सीट से सांसद बनी और जिला पंचायत की सीट से त्यागपत्र देना पड़ा मगर उसमें जनता ने आपको दिखा दिया था कि जिस सीट से आपकी माता जी पूर्व सांसद जिला पंचायत सदस्य थी उस सीट पर आपका प्रत्याशी तीसरे स्थान पर रहा था यह जनता है! विधायक जी जनता की बातों को समझो और जनता के साथ रहो भारतीय जनता पार्टी अपने मतलब के लिए आपका फायदा उठाती है! और अब फिर आपने ऐसी ही भूल की है! कि कैराना ब्लाक प्रमुख के चुनाव में आपने अपना कोई भी प्रत्याशी ना उतार कर खुलेआम भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी को वोट देने की अपील कर रहे हो हर क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी) सदस्य जो आपके अपने हैं! आप उनको फोन कर करके कह रहे हो कि भारतीय जनता पार्टी को वोट देना है! जब आप आज भारतीय जनता पार्टी के लिए वोट मांग रहे हो तो कल अपने लिए किस मुंह से जनता से वोट मांगोगे जनता सब समझ रही है! कि भारतीय जनता पार्टी और आपके बीच में डील हो गई है! और विधानसभा चुनाव में ज्यादा समय नहीं बचा है! विधायक जी हमें आपसे लगाओ और प्यार है! इसलिए आपसे कह रहे हैं! कि कैराना में फ़िर से मरहूम चौधरी मुनव्वर हसन साहब का नाम जिंदा रखिए और समाजवादी पार्टी का ब्लाक प्रमुख बनवाइएं आगे आपकी इच्छा है! और अगर आज आप भारतीय जनता पार्टी के लिए वोट मांगते हो तो कल को आपको अपने लिए वोट मांगने का अधिकार नहीं है! फ़िर तो आप खुलेआम समाजवादी पार्टी को छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में ही शामिल हो जाओ फिर कोई नहीं कहेगा कि भारतीय जनता पार्टी के लिए क्यों वोट मांगते हो और क्यों भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशियों को जीतवाते हो इस ब्लाक प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में आप ने साबित कर दिया है! कि आप लोगों पर भाजपा का एजेंट होने का आरोप लगाते हैं! मगर जनता समझ गई है! कि आप ही भाजपा के सबसे बड़े एजेंट हो और भाजपा भी जानती है! कि आप भाजपा के नहीं हो सिर्फ अपना मतलब निकालने के लिए भारतीय जनता पार्टी का साथ दे रहे हो तो इसीलिए जब किसी ग़रीब पर मुक़दमा होता है! तब भी आप भारतीय जनता पार्टी के सामने हाथ फैला लिया करो या जब आप पर ख़ुद पर पड़ती है! तो आप कहीं भी जा सकते हैं! आप पर कोई रोक टोक नहीं है! और अगर आपका कोई कार्यकरता किसी से बात भी कर ले तो आप आग बबूला हो जाते हो अब आपके कार्यकर्ता भी सब समझ गए हैं! और समाजवादी पार्टी भी सब समझ गई है! कि आप किस इलाके मैं समाजवादी पार्टी को कमजोर कर रहे हो और भारतीय जनता पार्टी को फायदा पहुंचा रहे हो आपको तो बस गंगोह में हम काज़ी परिवार पर बेवजह आरोप लगाकर जनता को गुमराह करने का काम कर रहे हो मगर गंगोह के इन लोगों को आप यह भी बता दो की कैराना में आप भारतीय जनता पार्टी को कैसे फ़ायदा पहुंचा रहे हो हम तो फिर भी यहां अपनी जनता अपनी हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए भारतीय जनता पार्टी हो या कोई भी पार्टी हो अपने आदमी के लिए हर पार्टी से लड़ते हैं! ना ही किसी मुकदमें से डरते हैं! और विधायक जी हमारे ऊपर आपसे ज्यादा मुकदमें होंगे और आपसे ज्यादा लंबा राजनीतिक इतिहास भी होगा मगर हमारे इतिहास में कभी गद्दारी नहीं है! हमने खुद्दारी की राजनीति की है! और जब तक काजी परिवार का एक बच्चा भी जीवित रहेगा वह खुद्दारी की राजनीति करेगा आपकी तरह अपनी जनता का सौदा नहीं करेगा और आपकी तरह भारतीय जनता पार्टी की गोद में जाकर नहीं बैठेगा आप यहां हमारी गंगोह में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके झूठ पर झूठ बोलते हो और लोग आप पर विश्वास कर लेते हैं! कि हां शायद विधायक जी सच ही बोल रहे होंगे मगर जब यहां के लोग कैराना में जाकर देखेंगे और आपके बारे में सुनेंगे तो फिर आप गंगोह क्षेत्र की इस भोली-भाली जनता को क्या जवाब देंगे आप अपने कैराना में भारतीय जनता पार्टी के डर से एक ब्लॉक प्रमुख पद का प्रत्याशी तो उतार नहीं सकते और यहां प्रेस कांफ्रेंस करके बड़ी-बड़ी बातें करते हो जैसे कैराना की जनता तुम्हें समझ गई है! यहां गंगोह की जनता भी इंशाल्लाह आपको जल्द ही समझ गई है! और जो कुछ बेचारे नहीं समझे वह जनता जल्द ही समझ जाएगी और जैसी राजनीति आप कर रहे हो इस तरह आप अपनी राजनीति पतन की ओर जा रहे हो अभी तो आप युवा हो आपको राजनीति की बुलंदियों तक पहुंचना था मगर आप छोटी-छोटी बातों को लेकर अपनी ओछी मानसिकता दिखाई देते हो और अब लोग जागरूक हो गए हैं! गंगोह की जनता भी आपको समझ गई है! कि आप कैराना से ज्यादा समय गंगोह मैं क्यों दे रहे हो क्योंकि कैराना की जनता तो आपको समझ चुकी है! अब आप गंगोह की जनता का बेवकूफ बनाना चाहते हो मगर गंगोह और गंगोह का क्षेत्र सहित नकुड, बेहट या यूं कह लीजिए कि पूरा सहारनपुर जिला और पूरा मुजफ्फरनगर जिला अब आपको समझ गया है! आपने जितनी राजनीति मरहूम चौधरी मुनव्वर हसन के नाम पर करनी थी कर ली आपने तो उनके नाम को भी मिट्टी में मिला दिया नहीं तो मुनव्वर हसन जी तो वह नाम है! जो सदियों तक लिए जाएंगे मगर आप में मुनव्वर हसन जी के एक भी गुण नहीं है! आप तो एक छोटी सी मुकदमे के डर से भारतीय जनता पार्टी की गोद में जाकर बैठ गए हो गंगोह और सहारनपुर को बाद में देख लेना पहले अपने कैराना को संभाल लो कैराना की जनता का काम कर लो और ब्लाक प्रमुख के चुनाव चल रहे हैं! दम है! तो भारतीय जनता पार्टी के सामने अपना प्रत्याशी उतार कर दिखाओ तब हम भी जानेंगे और कैराना की जनता भी आपको जाने की झूठ बोलने से कुछ नहीं होता जमीन पर उतर कर जनता के लिए कुर्बानियां देनी पड़ती है! हमारे बड़ों ने कुर्बानियां दी हैं! और हम जनता के लिए कुर्बानियां दे रहे हैं! आप तो प्रेस कॉन्फ्रेंस करके और 20 झूठ बोल कर चले जाते हो फिर आप गंगोह से भी गायब हो जाते हो और कैराना से भी लोग आपको ढूंढते फिरते हैं! पर आप किसी के हाथ नहीं आते बस चुनाव के समय आप लोगों के पास जाते हैं! अब जनता की यही पुकार है कि अगर आप में दम है! तो कैराना में जहां से आप विधायक हैं! वहां से आप भारतीय जनता पार्टी के सामने अपना ब्लाक प्रमुख पद का प्रत्याशी उतारिए और पहले की तरह उसे जीता कर दिखाइए आपको आपकी औकात का पता चल जाएगा पर आप ऐसा नहीं करेंगे क्योंकि आप तो भारतीय जनता पार्टी के पिट्ठू बने हुए हैं!

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button




जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close

Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275