हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर देश विख्यात पत्रकार मुशर्रफ सिद्दीकी ने किया देश के पत्रकारों को संबोधित

हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर देश विख्यात पत्रकार मुशर्रफ सिद्दीकी ने किया देश के पत्रकारों को संबोधित ..

सड़क से लेकर संसद तक पत्रकार सुरक्षा विधेयक को लेकर होगा संघर्ष …

वर्चुवल मीटिंग में लिया गया अहम फैसला …

मुज़फ्फरनगर।आज हिन्दी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर देश भर के पत्रकारों की एक वेच्यूल मींटिंग आहूत की गई जिससे पत्रकार सुरक्षा विधेयक अहम मुद्दा रहा मीटिंग में जहाँ खतौली के पत्रकारो के उत्पीड़न का मामला सामना आया वही चरथावल के पत्रकार का मामला भी चर्चा का विषय रहा कोरोना काल मे कोविड19 से हुई पत्रकारों की मौतो पर भी दुख प्रकट किया गया तथा देश भर में पत्रकारों पर हो रहे हमलों । पत्रकार उत्पीड़न की घटनाओं की निन्दा की गई और फैसला लिया गया कि लोकडाउन के बाद देश भर के पत्रकारों की एक अहम मीटिंग देश की राजधानी दिल्ली में होगी जिसमें एक सशक्त राष्ट्रीय पत्रकार संगठन बनाने की घोषणा की जाएगी बैठक को संबोधित करते हुए दैनिक अमन के सिपाही के संपादक एवम देश के विख्यात पत्रकार मुसर्रफ सिद्दीकी ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि पत्रकारों का उत्पीड़न किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नही किया जायेगा । उन्होंने देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवम सभी 29 मुख्यमंत्रीयो से अनुरोध किया कि वह पत्रकार सुरक्षा विधेयक पारित कराये अन्यथा पत्रकार सड़क से लेकर संसद तक आंदोलन करने के लिए विवश होगा । वेच्यूल मीटिंग में हरियाणा के वरिष्ठ पत्रकार सुभाष चंद्र पंवार ,दिल्ली से आजाद सिंह ,उत्तराखंड से परवेज गाजी ,राजस्थान से सैय्यद अल्ताफ हुसैन , व सुरेश राज परोहित ,बिहार से अनमोल कुमार, मध्यप्रदेश से धीरेन्द्र हांडा , महाराष्ट्र से वाहिद खान , गुजरात से रिसीदा ठाकुर ,कश्मीर से जफर इकबाल , पँजाब से अमिता ठाकुर , पूर्वाचल से मनीष श्री वास्तव ,लखनऊ से शमशाद सिद्दीकी ,के अलावा कैराना प्रेस क्लब के अध्यक्ष मेहराब चौधरी ,पानीपत पत्रकार संघ के अध्यक्ष विनोद पाँचल ,आदि शामिल रहे वही दूसरी ओर मुज़फ्फरनगर दैनिक अमन के सिपाही मुख्य कार्यालय पर हिन्दी पत्रकारिता दिवस के मौके पर पत्रकार गणेश शंकर विद्यार्थी एवम पंडित युगल किशोर को संधाजली अर्पित की गई इस मौके पर बैठक की अध्यक्षता कर रहे मुशर्रफ सिद्दीकी ने बताया कि 30 मई 1826 को पण्डित युगल किशोर ने उदन्त मार्तण्ड नामक समाचार पत्र सुरु किया था और तभी से हिन्दी पत्रकारिता दुनियाभर में परचलित हुई 19 दिसम्बर 1827 को पण्डित युगल किशोर के निधन के बाद इस समाचार पत्र का प्रकाशन बन्द हो गया वेसे हिन्दी पत्रकारिता ने हिंदुस्तान में आजादी की अहम भूमिका निभाई । बैठक में वसीम मंसूरी , अरशद मंसूरी , अरशद अंसारी , राशिद अंसारी , सुनील वर्मा , राव नफीस , ठाकुर योगेश सिंह कुशवाह , डॉक्टर चौधरी, फिरोज खान , शाहिद सैफी ,अरशद अब्बासी ,नदीम त्यागी , विशु शर्मा,नेहा राजपूत,आदि मौजूद रहे।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button




जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close

Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275