मुखिया पति से त्रस्त एक गरीब ने तरवारा थाना में आवेदन दिया

मुखिया पति से त्रस्त एक गरीब ने तरवारा थाना में आवेदन दिया

तरवारा थानाध्यक्ष मुख्यय पति के मेल में आकर करवाई नही किया
एक सप्ताह बाद पीड़ित व्यक्ति ने एसपी को आवेदन देकर न्याय दिलाने की लगाई गुहार

पीड़ित राज किरण ने कहा कि न्याय नही मिलने पर पटना हाई कोर्ट जाऊँगा

रिपोर्ट
परमानन्द पाण्डेय

बड़हरिया सिवान

सिवान जिले के बड़हरिया प्रखण्ड एवं तरवारा थाना क्षेत्र के काला डुमरा गांव निवासी महादलित स्वर्गीय राजेन्द्र राम के पुत्र राज किरण ने अपने पंचायत के मुखिया देवन्ति देवी के रंगदार पति बीरेंद्र राम के दबंगई एवं मनमानी के खिलाफ तरवारा थाना में 19 अप्रैल 21 को आवेदन दिया । पीड़ित परिवार मजदूर और असहाय व्यक्ति है । पीड़ित परिवार की जमीन खाता नम्बर 207 सर्वे नम्बर 2794 रकबा मात्र 5 धुर जमीन है । पीड़ित व्यक्ति ने अपने आवेदन में लिखा है कि उक्त मेरी जमीन जो मेरी दादी श्रीमती रामदेई देवी पति नगीना राम के नाम से बैनामा 10 मार्च 1987 में खरीदा गया है और बैनामा के दिन से शांति पूर्ण दखल कब्जा मेरे दादी के जमाने से लेकर अब तक चला आ रहा है । पंचायत चुनाव करीब होने के कारण गांव के मेरे विरोधियों के साथ मिलकर मुख्यय एवं मुख्यय पति अपनी दबंगई करते हुये मेरी जमीन में गैर कानूनी रूप से सड़क का निर्माण कराने पर तुले हुये है और मेरी जमीन में गड़ा गया लोहे का पिलर तोड़ दिये है जिससे मैं बेघर हो गया हूं । साथ ही लाखो रुपया की क्षति मेरी हुई है । इस कार्य का जब मैं विरोध किया तो मुखिया एवं मुखिया पति ने अपने दबंगई दिखाते हुये अपने गुर्गों के साथ मेरे घर पर आये और अश्लील गली देते हुये चुप रहने को कहते हुये मेरी और मेरे परिजनों की हत्या कर देने की धमकी दिये । मुखिया एवं मुखिया पति ने खुल्लेआम कहा कि हमलोगों की पहुच नीचे से ऊपर तक के
सभी पदधिकारियो के पास तक है । कही भी जाओगे हमलोगों का कुछ नही होगा।
पीड़ित व्यक्ति के आवेदन पर तरवारा थाना अध्यक्ष ने करवाई मुखिया एवं मुखिया पति पर नही किये । तब जाकर पीड़ित व्यक्ति ने सिवान एसपी साहब को मुखिया , मुख्यय पति और तरवारा थाना अध्यक्ष के खिलाफ आवेदन देकर न्याय दिलाने की गुहार लगाया । पीड़ित राज किरण ने बताया कि अगर एसपी साहब से न्याय नही मिलता है तो थाना अध्यक्ष तरवारा और एसपी सिवान के खिलाफ पटना उच्य न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के लिये मजबूर हो जाऊँगा । राज किरण ने तरवारा थाना अध्यक्ष्य पर आरोप लगाया कि मुझे जाती सूचक गली देते हुये बोले कि जहाँ जाना है जाओ आवेदन तो मेरे ही पास घूम कर जाच के लिये आएगा उस समय तुमको जेल झूठा केस करके भेजेंगे ।
बहरहाल बिहार में कानून के रखवाले ही पक्षकार बन जायेंगे तो पीड़ित व्यक्ति को न्यायालय की शिवा कोई रास्ता नही बचता है । पुलिस की कमाऊ नीति के चलते ही बहुत से गरीब दलित लोगो को न्याय मिलने में देरी हो जाती है ।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button




जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close

Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275