2020 और 2021 में इस कोरोना काल में( गल्ला किरयाना) थोक विक्रेताओं को कट रही है ,चांदी

2020 और 2021 में इस कोरोना काल में( गल्ला किरयाना) थोक विक्रेताओं को कट रही है ,चांदी

रिपोर्ट

परमानन्द पाण्डेय

बड़हरिया सिवान

बड़हरिया सिवान जिले के विभिन्न प्रखंडों में 1 अप्रैल 2020 से और 2021 के शुरुआत से ही इस कोरोना काल में जिले से लेकर विभिन्न प्रखंडों में गला किराना के थोक विक्रेताओं की चांदी कट रही है। बताते चलें कि सिवान जिले के 19 प्रखंडों की बात करें, तो गला किराना के थोक विक्रेताओं के मनमानी से ,खुदरा विक्रेता के साथ-साथ आम जनता को अप्रैल 2020 से अब तक महंगाई की कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। इस संबंध में बड़हरिया प्रखंड उप प्रमुख हरिहर साह ने बताया कि सरसों का धारा तेल 2 दिन पहले थोक विक्रेताओं ने ₹158 प्रति लीटर खुदरा विक्रेता को दिया। और खुदरा विक्रेता ने ग्राहक को ₹165 प्रति लीटर के भाव से दे रहे हैं। जबकि सरसों का सीजन चल रहा है इसमें और सस्ता होना चाहिए ,तो वही आम जनता को महंगा पड़ रहा हैं।वही थोक विक्रेता द्वारा 1 लीटर रिफाइन डेढ़ सौ रुपया में दिया जा रहा है। जबकि खुदरा विक्रेता ₹155 में बेच रहे हैं, चीनी का बात करें तो 2 दिन पहले थोक विक्रेता द्वारा 1820 में एक पैकेट में खुदरा विक्रेता को दिया जाता है। यानी 2 दिन में एक पैकेट पर ₹120 का खुदरा विक्रेता दौरा खरीदा गया। हालांकि खुदरा विक्रेताओं के खरीदना मजबूरी है। और ग्राहक को भी क्विंटल पर ₹20 लेना पड़ रहा है। वही अरहर दाल की बात करें तो थोक विक्रेता ने खुदरा विक्रेताओ को ₹105 प्रति किलो के हिसाब से दे रहे हैं, वही खुदरा विक्रेता प्रति किलो ₹5 लेकर ₹110 में दे रहै है, जबकि 2 दिन पहले ₹95 में थोक विक्रेता द्वारा दिया जाता था, तो ₹100 प्रति किलो खुदरा विक्रेता द्वारा ग्राहक को दिया जाता है, बड़हरिया प्रखंड उपप्रमुख हरिहर साह ने बताया कि यह सिवान जिले के विभिन्न प्रखंडों में थोक विक्रेताओं की मनमानी से महंगाई चरम पर है। हालांकि यह महंगाई इस करो ना काल में थोक विक्रेताओ ने अपनी मनमानी से खुदरा विक्रेताओ को अपना माल दे रहे हैं जो कहि से ठीक नही है,,इसपर प्रखंड उप प्रमुख एवम बड़हरिया के खुदरा किराना दुकानदारों ने कहा कि इसको देखते हुए सरकार को पहल करना चाहिए, की थोक विक्रेता इस सरसों के सीजन में सरसों का तेल महंगा हो जाना, ये कहीं से ठीक नहीं है ,इस पर सरकार को लगाम लगाना चाहिए, नहीं तो जनता की आक्रोश अगर फूटी तो इस कोरोना काल मे लोग रोड पर आ जाएंगे, और इसका खामियाजा सरकार को भुगतना पड़ेगा।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button




जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close

Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275