शामली जनपद के साथ साथ अन्य जनपदों के लिए यह बहुत ही असहनीय दुखद घटना है

शामली जनपद के साथ-साथ अन्य जनपदों के पत्रकारों के लिए यह बहुत ही असहनीय दु:खद घटना है!
मरहूम जहीर आरजू साहब वरिष्ठ पत्रकार होने के साथ-साथ एक मिलनसार व्यक्तित्व के इंसान थे, उनके इंतकाल से पूरे पत्रकार जगत को जो हानि पहुंची है! उसे पूरा नहीं किया जा सकता है!प्रेस क्लब कैराना (रजिस्टर्ड) उनके इंतकाल पर गहरा दु:ख प्रकट करता है!और अल्लाह पाक से दुआ करता है! कि अल्लाह पाक उनको जन्नत-उल-फिरदोस में आला से आला मक़ाम अता फरमाएं !और अल्लाह पाक उनकी मगफिरत फरमाएं !और उनके परिजनों को इस असहनीय दु:ख की घड़ी में सब्र-ए-जमील अता फरमाएं !!मरहूम जहीर आरजू साहब वरिष्ठ पत्रकार होने के साथ-साथ हमारे पारिवारिक सदस्य भी थे, और उन्होंने हमेशा मुझे पत्रकारिता में अच्छे संस्कार दिए हैं!और वह मुझे हमेशा अपने सगे छोटे भाई की तरह प्यार करते थे उनके अचानक चले जाने से आज मैं “”महराब चौधरी”” पत्रकारिता जगत में अपने आपको भी बहुत अकेला महसूस कर रहा हूं!वह कांधला के ही नहीं हर जगह के सम्मानित पत्रकार साथियों को बहुत प्यार करते थे और सभी को हमेशा अपना समझते थे और सब के दु:ख-सुख में हमेशा सबसे आगे खड़े दिखाई देते थे,आज मेरी बदनसीबी है! कि मैं आज बाहर हूं! और ऐसी महान शख्सियत (मरहूम जहीर आरजू साहब) की तफनीन (सुपुर्द-ए-खाक) में भी शामिल नहीं हो सकता हूं!इस बात का मुझे पूरी उम्र अफसोस और दु:ख रहेगा रहेगा !मरहूम जहीर आरजू साहब एक महान और वरिष्ठ पत्रकार, और वरिष्ठ समाज सेविक, और हिंदू-मुस्लिम एकता की जीती जागती मिसाल थे !और मरहूम जहीर आरजू साहब खुद भी अपने आप में एक बेमिसाल आदमी थे,और मरहूम जहीर आरजू साहब सबके दु:ख-सुख में वह हमेशा पूरी मजबूती और हिम्मत के साथ अग्रणी भूमिका में साथ खड़े दिखाई देते थे !मुझ “”महराब चौधरी”” को अभी विश्वास नहीं हो रहा है! की हमारे बड़े भाई वरिष्ठ पत्रकार, वरिष्ठ समाजसेवी, और हिंदू-मुस्लिम एकता के प्रतीक मरहूम जहीर आरजू साहब हमारे बीच में नहीं रहे हैं!और वह सभी सम्मानित पत्रकार साथियों का बहुत आदर और सम्मान करते थे, भले ही उम्र में कोई भी सम्मानित पत्रकार साथी, या कोई भी सम्मानित व्यक्ति उनसे कितना ही छोटा क्यों ना हो वह (मरहूम जहीर आरजू साहब) के अंदर एसी बहुत अच्छी कुव्वत थी की वह (मरहूम जहीर आरजू साहब) सबका इतना आदर और सम्मान करते थे, कि उसको यह महसूस भी नहीं होने देते थे की वह उनसे उम्र में कितने बड़े हैं! और फिर भी अपने से छोटे का कितना आदर और सम्मान कर रहे हैं!ऐसी खासियत बहुत ही कम आदमियों में देखने को मिलती है!और मरहूम जहीर आरजू साहब पत्रकारिता जगत में सब सम्मानित पत्रकारों में हमेशा एकता बनाएं रखना चाहते थे !और मरहूम जहीर आरजू साहब चाहते थे कि सभी कैराना-कांधला सहित जनपद शामली एवं अन्य जनपदों के सभी सम्मानित पत्रकार साथी हमेशा एक-जुट रहें !और मरहूम जहीर आरजू साहब का हमेशा कैराना में कैराना के सभी सम्मानित पत्रकारों से अलग ही लगाव था !और वह कैराना के सभी सम्मानित पत्रकार साथियों से समय-समय पर मिलने भी आते थे !और अगर उनको कैराना में जैसे कि तहसील वगैरह में कोई काम होता था तब भी वह कैराना के सभी सम्मानित पत्रकार साथियों से मिलना जुलना नहीं भूलते थे इसलिए उनका कैराना के सभी सम्मानित पत्रकार साथियों से हमेशा अलग ही प्यार, मोहब्बत, और लगाओ, रहा है!और पूरे जीवन हमेशा उनका यही प्रयास रहता था और उनकी दिली इच्छा भी यही थी कि सभी पत्रकार साथी एकजुट रहें !और मरहूम जहीर आरजू साहब हमेशा मुझसे यही बात कहते थे कि अध्यक्ष जी बंद मुट्ठी लाख की और खुली हुई खाक की !आज मुझे मरहूम जहीर आरजू साहब की सारी बातें याद आ रही हैं!की उनकी बातों में वास्तव में सच्चाई थी और आदमी जब चला जाता है! तब उनकी सारी बातें और भी ज्यादा याद आती है!उनके जैसा मिलनसार, लगनशील, कर्मठ, जुझारू, और सबको साथ लेकर चलने वाला पत्रकार संभवत: कोई दूसरा नहीं है!अल्लाह पाक ने आज हमारे पिता तुल्य, महान वरिष्ठ पत्रकार, महान समाजसेवी, और सबको साथ लेकर चलने वाले, हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल, मरहूम जहीर आरजू साहब को अपने पास बुला लिया है!जाना तो एक ना एक दिन सभी को है! मगर जहीर आरजू साहब का इस तरह जाना पत्रकारिता जगत और सामाजिक जगत के लिए अपूरणीय क्षति है!पूरा प्रेस क्लब कैराना (रजिस्टर्ड) “”परिवार”” इस असहनीय दु:ख की घड़ी में मरहूम जहीर आरजू साहब के “”परिवार”” के साथ कंधे से कंधा मिला कर खड़ा है!और मरहूम जहीर आरजू साहब ऐसी महान शख्सियत थे की उन जैसे महान वरिष्ठ पत्रकार, महान समाजसेवी, और हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल, कस्बा कांधला के साथ-साथ अन्य कस्बों में भी मशहूर शख्सियत मरहूम जहीर आरजू साहब को भुलाना नामुमकिन है!मरहूम जहीर आरजू साहब हमेशा हर सम्मानित पत्रकार, और हर सम्मानित सामाजिक, और वरिष्ठ नागरिकों, और हिंदू-मुस्लिम एकता के चाहने वालों, के दिलों में हमेशा जिंदा रहेंगे !अल्लाह पाक उनको (मरहूम जहीर आरजू साहब) को जन्नत-उल-फिरदोस में आला से आला मक़ाम अता फरमाएं !और अल्लाह पाक उनके दरजात को बुलंद फरमाएं !और अल्लाह पाक उनकी मगफिरत फरमाएं !
और अल्लाह पाक उनके “”परिवार”” और उनके सभी चाहने वालों को इस असहनीय दु:ख की घड़ी में सब्र-ए-जमील अता फरमाएं !आमीन सुम्मा आमीन !!दुआओं का तलबगार आपका अपना भाई महराब चौधरी अध्यक्ष प्रेस क्लब कैराना (रजिस्टर्ड) कैराना जनपद शामली उत्तर प्रदेश !!अध्यक्ष हिंदू मुस्लिम एकता कमेटी कैराना जनपद शामली उत्तर प्रदेश !!एवं समस्त पदाधिकारीगण एवं सदस्यगण प्रेस क्लब कैराना (रजिस्टर्ड) कैराना जनपद शामली उत्तर प्रदेश

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button




जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close

Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275